Indian Railways:त्योहारों से पहले खुशखबरी! AC 3 इकोनॉमी कोच में भी शुरू हो सकती है ये मुफ्त सुविधा

कोविड
के
दौरान
बेड
रोल
बंद
कर
दिए
गए
थे

कोविड
महामारी
के
दौरान
लॉकडाउन
के
बाद
भारतीय
रेलवे
ने
धीरे-धीरे
जो
स्पेशल
ट्रेनें
चलानी
शुरू
की
थीं,
उसमें
संक्रमण
की
रोकथाम
के
लिए
एससी
कोचों
में
भी
बेड
रोल
दिया
जाना
बंद
कर
दिया
गया
था।
यात्रियों
से
रेलवे
की
ओर
से
कहा
जाता
था
कि
वह
अपने
लिए
अपने
स्वयं
का
बेड
रोल
लेकर
आएं।
बाद
में
रेलवे
स्टेशनों
पर
डिस्पोजेबल
बेड
रोल
भी
मिलने
लगे,
जिसकी
एवज
में
अलग
से
पैसे
देने
पड़ते
थे।
लेकिन,
इस
साल
की
शुरुआत
से
रेलवे
ने
धीरे-धीरे
कुछ
चुनिंदा
ट्रेनों
में
यह
सुविधा
बहाल
करनी
शुरू
कर
दी
थी।
अभी
तक
रेलवे
की
ओर
से
यात्रा
शुरू
होने
से
कुछ
घंटे
पहले
यात्रियों
को
एक
लिस्ट
भेजी
जाती
है
कि
किन
ट्रेनों
में
इसकी
व्यवस्था
शुरू
हो
चुकी
है
और
किस
में
यात्रियों
को
यह
व्यवस्था
खुद
करनी
है।

बेड रोल में क्या शामिल होता है ?

बेड
रोल
में
क्या
शामिल
होता
है
?

इस
समय
भारतीय
रेलवे
की
ओर
से
सामान्य
तौर
पर
एसी
फर्स्ट
क्लास,
एसी
2-टियर
स्लीपर
और
एसी
3-टियर
स्लीपर
के
यात्रियों
को
फिर
से
मुफ्त
बेड
रोल
मुहैया
करवाया
जाने
लगा
है।
बेड
रोल
में
रेलवे
की
ओर
से
एसी
कोच
के
इन
श्रेणियों
के
यात्रियों
को
मुफ्त
में
एक
साफ-सुथरा
कंबल,
दो
बेड
शीट,
एक
तकिया
और
चेहरा
और
हाथ
पोंछने
के
लिए
एक
छोटा
सा
तौलिया
उपलब्ध
करवाया
जाता
है।

3 एसी इकोनॉमी क्लास में भी मुफ्त बेड रोल-रिपोर्ट

3
एसी
इकोनॉमी
क्लास
में
भी
मुफ्त
बेड
रोल-रिपोर्ट

लेकिन,
कुछ
मीडिया
रिपोर्ट
के
मुताबिक
भारतीय
रेलवे
त्योहारी
मौसम
शुरू
होने
से
पहले
इसी
हफ्ते
से
3
एसी
इकोनॉमी
क्लास
के
यात्रियों
को
भी
यह
सुविधा
मुफ्त
उपलब्ध
कराने
का
फैसला
किया
है।
ट्रेनों
की
इस
वातानुकूलित
श्रेणी
के
यात्रियों
में
यह
सुविधा
नहीं
दी
जाती
रही
है।
गरीब
रथ
जैसी
ट्रेनों
में
यह
सुविधा
पहले
भी
उपलब्ध
थी
तो
वह
यात्रियों
की
ओर
से
मांगे
जाने
पर
और
उसके
लिए
अलग
से
भुगतान
करने
के
बाद
दी
जाती
थी।
लेकिन,
अब
रिपोर्ट
के
मुताबिक
इन
बेड
रोल
को
इकट्ठा
करने
के
लिए
3
एसी
इकोनॉमी
क्लास
के
बर्थ
81,82
और
83
को
खाली
रखा
जाएगा।
साथ
ही
जिन
यात्रियों
के
नाम
से
ये
बर्थ
आरक्षित
होंगे,
उन्हें
इमरजेंसी
कोटा
के
तहत
किसी
कोच
में
बर्थ
उपलब्ध
करवाई
जाएगी।

कोविड की वजह से पूरी तरह से बंद हो गई थी यह सुविधा

कोविड
की
वजह
से
पूरी
तरह
से
बंद
हो
गई
थी
यह
सुविधा

इससे
पहले
इस
साल
मार्च
से
भारतीय
रेलवे
ने
ट्रेन
के
अंदर
एसी
कोचों
में
बेड
रोल
उपलब्ध
कराने
पर
कोविड
की
वजह
से
लगी
रोक
हटा
ली
थी।
यह
व्यवस्था
फिर
से
उसी
तरह
शुरू
हो
गई
थी,
जो
कोरोना
के
प्रकोप
से
पहले
थी।
जबतक
रेलवे
यात्रियों
को
यह
सुविधा
उपलब्ध
नहीं
करवा
पा
रहा
था
तो
उन्हें
काफी
परेशानी
हो
रही
थी
और
उन्हें
अपनी
ओर
से
इसका
इंतजाम
करके
यात्रा
करनी
पड़
रही
थी।

इसे भी पढ़ें- उत्तर पूर्व सीमांत रेलवे ने पुराने कोचों में किया बड़ा बदलाव, बेहतर अनुभव देने के साथ रोजगार सृजन है लक्ष्यइसे
भी
पढ़ें-
उत्तर
पूर्व
सीमांत
रेलवे
ने
पुराने
कोचों
में
किया
बड़ा
बदलाव,
बेहतर
अनुभव
देने
के
साथ
रोजगार
सृजन
है
लक्ष्य

अगर बेड रोल ना मिले तो क्या करें ?

अगर
बेड
रोल
ना
मिले
तो
क्या
करें
?

हालांकि,
प्रावधानों
के
मुताबिक
यदि
किसी
वजह
से
रेलवे
ट्रेनों
में
बेड
रोल
उपलब्ध
नहीं
करवा
पाता
है
तो
यात्रियों
को
गंतव्य
स्टेशन
पर
20
रुपए
रिफंड
पाने
का
अधिकार
है।
इस
रिफंड
के
लिए
संबंधित
ट्रेन
के
उस
स्टेशन
पर
पहुंचने
के
20
घंटे
के
भीतर
दावा
करना
जरूरी
है।
लेकिन,
इसके
लिए
जरूरी
है
कि
यात्री
अपनी
यात्रा
टिकट
के
साथ
ट्रेन
के
कंडक्टर
या
टीटीई
से
इस
संबंध
में
प्राप्त
सर्टिफिकेट
भी
लगाकर
पेश
करें
कि
फलां
कारण
से
बेड
रोल
नहीं
उपलब्ध
करवाई
जा
सकी
है।

Supply hyperlink

Leave a Comment