Crime in Delhi : आपसी विवाद में दोस्त ने स्विगी डिलीवरी बॉय के पेट में घोंपा चाकू

ख़बर सुनें

पंजाबी बाग इलाके में आपसी विवाद में एक युवक ने अपने दोस्त के पेट में चाकू घोंपकर उसे बुरी तरह से घायल कर दिया। पीड़ित स्विगी कंपनी में बतौर डिलीवरी बॉय काम करता है। आरोपी ने उसे सुलहनामा करने के बहाने बुलाकर वारदात को अंजाम दिया। बुरी तरह घायल पीड़ित का करीब 18 दिनों तक अस्पताल में इलाज चला। अस्पताल से घर आने के बाद पुलिस ने पीड़ित के बयान पर हत्या का प्रयास का मामला दर्ज कर लिया। 

पीड़ित की पहचान अमित यादव के रूप में हुई है। वह सपरिवार सुदर्शन पार्क मोती नगर में रहता है। वह स्विगी कंपनी में डिलीवरी बॉय का काम करता है। अमित ने पुलिस को बताया कि करीब एक माह पहले उसकी कर्मपुरा में रहने वाले दोस्त यश राजपुत से किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया था। 28 अगस्त की शाम यश ने अमित को फोन कर सुलहनामा करने के लिए पंजाबी बाग स्थित भारत सुदर्शन पार्क में बुलाया था। अमित अपने एक दोस्त रोहित के साथ वहां पहुंचा। 

कुछ देर बाद यश राजपुत अपने एक दोस्त जीत पवार के साथ कार से वहां पहुंचा। यश कार से उतरकर रोहित से हाथ मिलाया और अचानक अमित की पिटाई करने लगा। उसका दोस्त जीत कार से चाकू लेकर नीचे उतरा। यश ने उसे अमित का काम तमाम करने के लिए कहा। जीत ने अमित के पेट में चाकू घोंप दिया। चाकू मारे जाने से अमित वहीं गिर गया। वारदात को अंजाम देने के बाद दोनों आरोपी मौके से फरार हो गए। 

रोहित ने घायल अमित को आचार्य भिक्षु अस्पताल में भर्ती कराया। जहां उसकी हालत बिगड़ने के बाद उसे सफदरजंग अस्पताल में रेफर कर दिया गया। पुलिस को घटना की जानकारी दे दी गई। लेकिन अमित के बयान देने की स्थिति में नहीं होने की वजह से पुलिस ने मामले को लंबित रखा। 18 दिनों के इलाज के बाद अमित को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। उसके बाद पुलिस ने उसका बयान दर्ज किया। पुलिस ने पीड़ित के बयान पर 16 सितंबर को हत्या का प्रयास का मामला दर्ज कर लिया। पुलिस मामले पर कार्रवाई करते हुए अगले दिन दोनों आरोपियों को इलाके से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर जांच में जुटी है। 

विस्तार

पंजाबी बाग इलाके में आपसी विवाद में एक युवक ने अपने दोस्त के पेट में चाकू घोंपकर उसे बुरी तरह से घायल कर दिया। पीड़ित स्विगी कंपनी में बतौर डिलीवरी बॉय काम करता है। आरोपी ने उसे सुलहनामा करने के बहाने बुलाकर वारदात को अंजाम दिया। बुरी तरह घायल पीड़ित का करीब 18 दिनों तक अस्पताल में इलाज चला। अस्पताल से घर आने के बाद पुलिस ने पीड़ित के बयान पर हत्या का प्रयास का मामला दर्ज कर लिया। 

पीड़ित की पहचान अमित यादव के रूप में हुई है। वह सपरिवार सुदर्शन पार्क मोती नगर में रहता है। वह स्विगी कंपनी में डिलीवरी बॉय का काम करता है। अमित ने पुलिस को बताया कि करीब एक माह पहले उसकी कर्मपुरा में रहने वाले दोस्त यश राजपुत से किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया था। 28 अगस्त की शाम यश ने अमित को फोन कर सुलहनामा करने के लिए पंजाबी बाग स्थित भारत सुदर्शन पार्क में बुलाया था। अमित अपने एक दोस्त रोहित के साथ वहां पहुंचा। 

कुछ देर बाद यश राजपुत अपने एक दोस्त जीत पवार के साथ कार से वहां पहुंचा। यश कार से उतरकर रोहित से हाथ मिलाया और अचानक अमित की पिटाई करने लगा। उसका दोस्त जीत कार से चाकू लेकर नीचे उतरा। यश ने उसे अमित का काम तमाम करने के लिए कहा। जीत ने अमित के पेट में चाकू घोंप दिया। चाकू मारे जाने से अमित वहीं गिर गया। वारदात को अंजाम देने के बाद दोनों आरोपी मौके से फरार हो गए। 

रोहित ने घायल अमित को आचार्य भिक्षु अस्पताल में भर्ती कराया। जहां उसकी हालत बिगड़ने के बाद उसे सफदरजंग अस्पताल में रेफर कर दिया गया। पुलिस को घटना की जानकारी दे दी गई। लेकिन अमित के बयान देने की स्थिति में नहीं होने की वजह से पुलिस ने मामले को लंबित रखा। 18 दिनों के इलाज के बाद अमित को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। उसके बाद पुलिस ने उसका बयान दर्ज किया। पुलिस ने पीड़ित के बयान पर 16 सितंबर को हत्या का प्रयास का मामला दर्ज कर लिया। पुलिस मामले पर कार्रवाई करते हुए अगले दिन दोनों आरोपियों को इलाके से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर जांच में जुटी है। 

Supply hyperlink

Leave a Comment