‘वार्डन का निलंबन, नया मोबाइल, वॉशरूम में बदलाव…’, इन मांगों के बाद चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में शांत हुआ विरोध

इन मांगों के बाद शांत हुआ छात्रों का गुस्सा

प्रशासन ने भरोसा दिलाया है कि छात्रों की मांगों को पूरा किया जाएगा, जिसके बाद ही छात्रों ने धरना खत्म किया है। छात्रों की मांग है कि, है: 10 सदस्यीय छात्रों की एक समिति को जांच अधिकारी मामले की हर लेटेस्ट अपडेट देंगे। छात्रावास के वार्डन जहां ये घटना हुई, को निलंबित कर दिया जाएगा, लड़कियों के छात्रावास की जांच की जाएगी, विश्वविद्यालय ने यह भी आश्वासन दिया है कि वे प्रदर्शन के दौरान टूटे छात्रों के मोबाइल फोन के बदले नया मोबाइल फोन देंगे। गर्ल्स हॉस्टल वॉशरूम के दरवाजे बदल दिए जाएंगे।

रविवार की रात 1.30 बजे खत्म हुआ धरना

रविवार की रात 1.30 बजे खत्म हुआ धरना

चंडीगढ़ विश्वविद्यालय में संबंधित अधिकारियों के आश्वासन के बाद रविवार की रात और सोमवार तड़के 1.30 बजे धरना खत्म हुआ। विश्वविद्यालय 24 सितंबर तक बंद रहेगा। मोहाली के उपायुक्त अमित तलवार ने मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए है और मामले में एक विशेष जांच दल भी गठित किया था। कई लड़कियों के आपत्तिजनक वीडियो लीक होने का आरोप लगने के बाद रविवार तड़के करीब ढाई बजे आंदोलन शुरू हुआ। बाद में, पुलिस और विश्वविद्यालय ने स्पष्ट किया कि छात्रा द्वारा केवल एक वीडियो, जो इस मामले में मुख्य आरोपी है, शिमला में एक व्यक्ति को भेजा गया था।

3 लोग हुए गिरफ्तार

3 लोग हुए गिरफ्तार

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी वीडियो विवाद मामले में अब तक तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। जिसमें विश्वविद्यालय की एक छात्रा और दो पुरुष हैं। मामले में रविवार रात तीसरा आरोपी गिरफ्तार हुआ है, वो भी शिमला का रहने वाला 31 वर्षीय शख्स है। इसके अलावा 22 वर्षीय विश्वविद्यालय की छात्रा और उसका 23 23 वर्षीय दोस्त गिरफ्तार किए गए हैं।

शुरुआती इनपुट्स से क्या-क्या पता चला?

शुरुआती इनपुट्स से क्या-क्या पता चला?

शुरुआती इनपुट्स से पता चला था कि 60 छात्राओं के वीडियो को आरोपी ने हिमाचल प्रदेश में अपने दोस्त के साथ कथित तौर पर शेयर किया था। बाद में, पुलिस और विश्वविद्यालय ने स्पष्ट किया कि आरोपी ने केवल उसका वीडियो अपने दोस्त के साथ साझा किया था।

क्या सच में लड़कियों ने की थी आत्महत्या की कोशिश

क्या सच में लड़कियों ने की थी आत्महत्या की कोशिश

ऐसी अफवाहें भी थीं कि छात्राओं द्वारा आत्महत्या करने की सूचना दी गई थी। हालांकि, विश्वविद्यालय ने कहा है कि उसने ऐसी कोई घटना नहीं देखी है। प्रदर्शनों के बीच, कुछ लड़कियां बेहोश हो गईं और उन्हें स्थानीय सिविल अस्पताल ले जाया गया था, जहां से उन्हें कुछ घंटों के बाद छुट्टी दे दी गई थी।

ये भी पढ़ें-चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में 60 लड़कियों का नहाते हुए वीडियो वायरल, दावा-8 ने की जान देने की कोशिशये भी पढ़ें-चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में 60 लड़कियों का नहाते हुए वीडियो वायरल, दावा-8 ने की जान देने की कोशिश

Supply hyperlink

Leave a Comment